प्रतापगढ़ में सपा की जनसभा में बवाल : पूर्व मंत्री शिवाकांत ओझा के समर्थकों ने टिकट दावेदारों को मंच पर पीटा।

प्रतापगढ़ में सपा की जनसभा में बवाल : पूर्व मंत्री शिवाकांत ओझा के समर्थकों ने टिकट दावेदारों को मंच पर पीटा।

प्रतापगढ़ में सपा की जनसभा में बवाल : पूर्व मंत्री शिवाकांत ओझा के समर्थकों ने टिकट दावेदारों को मंच पर पीटा।

प्रतापगढ़ में सपा की जनसभा में बवाल : पूर्व मंत्री शिवाकांत ओझा के समर्थकों ने टिकट दावेदारों को मंच पर पीटा।

एक ही विधानसभा से कई दावेदारों के मंच पर मौजूद होने के कारण स्थिति बेकाबू हो गई। सपा से टिकट की दावेदारी कर रहे नेताओं के समर्थकों ने दूसरे दावेदारों के समर्थकों को रोकने टोकने के साथ उनकी आलोचना करने लगे, जिससे स्थिति बेकाबू हो गई और जमकर मारपीट हुई और खुलेआम असलहे लहराए गए।

दावा किया जा रहा है कि सपा की जनसभा में मौजूद पूर्व मंत्री शिवाकांत ओझा के समर्थकों ने पूर्व विधायक श्याद अली और उनके बेटे को पीटा।

विस्तार

रानीगंज विधानसभा के मिर्जापुर चौराही गांव में आयोजित समाजवादी पार्टी की जनसभा में शुक्रवार को जमकर हंगामा हो गया। समाजवादी पार्टी से रानीगंज विधानसभा से टिकट की मांग कर रहे सपा नेताओं को पूर्व मंत्री शिवाकांत ओझा के समर्थकों ने मंच पर ही पीट दिया। ओझा के समर्थन में जमकर नारेबाजी भी की गई। इस घटना से मंच पर अफरातरफरी का माहल करा। कई नेताओं ने मंच से नीचे भागकर अपनी जान बचाई।

पूर्व मंत्री आरके चौधरी की ओर से आयोजित जनसभा के दौरान पूर्व विधायक रानीगंज शिवाकांत ओझा और टिकट की दावेदारी कर रहे सपानेताओं के बीच जमकर मारपीट हो गई। आरोप है कि पूर्व मंत्री के समर्थकों ने टिकट के दावेदारों सहित उनके समर्थन में आए नेताओं को मंच पर ही पीटने लगे। इससे अफरातफरी मच गई। इस दौरान कई नेताओं ने खुलेआम मंच पर असलहा लहराए इससे स्थित और भी बेकाबू हो गई और सपा के तमान नेता मंच से नीचे कूदकर भागने लगे। कई सपा नेताओं को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा गया। 

नारेबाजी के बाद शुरू हुआ बवाल

बताया जाता है कि सभा के दौरान तमाम लोग पूर्व मंत्री और रानीगंज से पूर्व सपा विधायक शिवाकांत ओझा के समर्थन में नारेबाजी कर रहे थे। यह बात इसी सीट से टिकट की दावेदारी कर रहे कुछ सपा नेताओं और उनके समर्थकों को नागवार गुजरी और वह नारेबाजी कर रहे लोगों को रोकने टोकने लगे। कुछ नेताओं ने मंच से ही माइक के माध्यम से इस तरह की नारेबाजी न करने की बात कह दी। आरोप है कि इसके बाद ओझा के समर्थक आक्रोशित हो गए और विरोध कर रहे सपा नेताओं को दौड़ा-दौड़ाकर मंच पर ही पीटने लगे।