CM नीतीश कुमार के सामने बुजुर्ग ने खोली मुखिया की पोल, जनता दरबार में पूरे बिहार से पटना आ

CM नीतीश कुमार के सामने बुजुर्ग ने खोली मुखिया की पोल, जनता दरबार में पूरे बिहार से पटना आ

बिहार के मुख्‍यमंत्री आज पूरे राज्‍य से आए लोगों से जनता दरबार में उनकी शिकायतें सुनेंगे। इसके लिए पटना में आयोजन स्‍थल पर लोगों का आना शुरू हो गया है। यहां पूरी व्‍यवस्‍था की गई है।

पटना, आनलाइन डेस्‍क। Bihar CM Nitish Kumar in Janta Darbar: जनता के दरबार में मुख्यमंत्री कार्यक्रम में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मिलने के लिए पूरे राज्‍य के लोग पटना पहुंचे हैं। बांका से आए युवक ने बताया कि बस हादसे में उसका एक हाथ कट गया था, लेकिन सरकार की ओर से कोई मुआवजा नहीं दिया गया। इस मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने संबंधित अधिकारी को तुरंत फोन लगाकर मामले की पड़ताल और उचित कार्रवाई करने का निर्देश दिया। जनता दरबार में लोग नाली-गली की शिकायत लेकर भी पहुंचे हैं। एक बुजुर्ग ने मुख्‍यमंत्री को बताया कि गांव के मुखिया ने उनके नाम पर मनरेगा का जाब कार्ड बनवा लिया है और फर्जी तरीके से इस कार्ड पर मजदूरी का भुगतान भी हो रहा है, जबकि वे कभी मनरेगा में मजदूरी किए ही नहीं हैं।

मिली जानकारी के अनुसार मुख्‍यमंत्री आज मुख्य रूप से कार्य महकमे से जुड़ी शिकायतें सुनेंगे। कार्य महकमे के अतिरिक्त कई अन्य विभाग भी तीसरे सोमवार की सूची में शामिल हैं। आपको बता दें कि जनता दरबार में मुख्‍यमंत्री से मिलने के लिए पहले से रजिस्‍ट्रेशन कराना और अप्‍वाइंटमेंट मिलना जरूरी है। इसके लिए संबंधित व्‍यक्ति को आनलाइन आवेदन देना होता है। सुदूर जिलों से आने वाले लोगों के लिए पटना तक आने की व्‍यवस्‍था संबंधित जिला अधिकारी को करनी होती है। मुख्‍यमंत्री सुबह 10 बजे से आम लोगों की शिकायतें सुनते हैं। एक दिन में वे आम तौर पर 150 से 200 लोगों से ही रूबरू होते हैं। यह सीमा कोविड संक्रमण को देखते हुए तय की गई है।

पटना में लगने लगे हैं कई जनता दरबार, सीएम नीतीश कुमार से मिलना बिहार के लोगों की पहली पसंद

इन विभागों से जुड़ी शिकायतें सुनेंगे मुख्‍यमंत्री

इस बाबत मिली जानकारी के अनुसार मुख्यमंत्री ग्रामीण विकास विभाग, ग्रामीण कार्य, पंचायती राज, ऊर्जा, पथ निर्माण, लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण, कृषि, सहकारिता, पशु एवं मत्स्य संसाधन, जल संसाधन, लघु जल संसाधन, उद्योग, गन्ना उद्योग, नगर विकास एवं आवास, खाद्य एवं उपभोक्ता संरक्षण, परिवहन, आपदा प्रबंधन, पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन, योजना एवं विकास, पर्यटन, भवन निर्माण, सूचना एवं जनसंपर्क, वाणिज्यकर तथा सामान्य प्रशासन विभाग से जुड़ी शिकायतों को सुनेंगे